Punjabi

मंज़िल Manzil Lyrics in Hindi by Ranjit Bawa

Manzil Lyrics in Hindi by Ranjit Bawa यह एक लेटेस्ट पंजाबी गाना है। Manzil Lyrics Hindi बिकक ढिल्लों ने लिखा है और म्यूजिक दिया है देसी क्रू ने जबकि वीडियो डायरेक्ट देविओ संधू ने किया है।

Manzil Lyrics in Hindi
  • Song: Manzil
  • Singer: Ranjit Bawa
  • Music: Desi Crew
  • Lyrics: Bikk Dhillon

Manzil Lyrics in Hindi

मेरे यारों मेरु तरू
ऐवें न होंसला हारो
टैगडे होके हमला मारो
वक़्त ग़ुज़रदा जावे जी

अखां खोलो हुन्न न डोलो
ऐवें न जवानी रोलो
जज़्बा अपना और एंड्रोन टोलो
मेहनात रंग ले आवेगी

की हुन्दियां ने तकदीरें
एह हाथां दियां लकीरां
यारों बदल देयो तस्वीरें
डार जाना मंजूर नई

Also check.. Tod da e dil by Ammy virk

जे होन रहै ते पाके
पुत्त दूनिया मारे धक्के
बंदा दिल ना छोटा राखे
मंज़िल बहुति दूर नै
मंज़िल बहुति दूर नै

दिन रात नै हुन्न बेहना
हौली हौली चलदे रहना
बाहुत काले वि नै दर्द
कालि अगे तोय जी

चूब गए कंडे ते तडपे
ओथे पैर नु बेग फेद के
पीछे वल नू भजे डार के
सोल क्यूं ऐने होए जी

एह काम ना मर्दन वाले
दिल कमजोर हो गया बहल
क्यूँ न खण्डा खूँ उबाले
चेहेरे ते वि नूर नई

जे होन रहै ते पाके
पुत्त दूनिया मारे धक्के
बंदा दिल ना छोटा राखे
मंज़िल बहुति दूर नै
मंज़िल बहुति दूर नै

जो इक निशाना रखदे
फेर इतिहस न ओहि रचदे
सोभा सब जग दी खत दे
गल एह चेटे राखेयो जी

जो जग फतेह न करदे
ऐवें नाल हलातन लाडे
कोशिष करै ते नै दर्दे
ओहना खत्तेया दाससेयो की

Manzil Lyrics in Hindi by Ranjit Bawa

जो झूके समय दे अगे
बैठे वेखान खाबे सजजे
ओहुं फाल वि कीठों लागे
जेहिं पैदा बोर नई

जे होन रहै ते पाके
पुत्त दूनिया मारे धक्के
बंदा दिल ना छोटा राखे
मंज़िल बहुति दूर नै
मंज़िल बहुति दूर नै

करके इक खून पसीना
खोटा वि बन जाए नगीना
फेर तान रहदी कोइ कामी न
मुल सिर्रे दा दर्ददा जी

रब चड्ढी काला विचवे
कित्ती मेहँत नू रंग लावे
फेरसन अरशान तक पहूचवे
बिक्का साच्यां कीन्दा जी

Also check.. Ishq meetha by Palak Muchhal

हो जांदे कारज पूरे
मंज़िल आयी खादी ऐ मुह्रे
तुरदे हिक्क तान के सूरे
करदे कदे गरोर नै

जे होन रहै ते पाके
पुत्त दूनिया मारे धक्के
बंदा दिल ना छोटा राखे
मंज़िल बहुति दूर नै
मंज़िल बहुति दूर नै

Back to top button
Close
Close